Random Musings – कल Vs Tomorrow

Alive, Awake, Aware, Hands, Embrace, Holding, Being
johnhain@pixabay.com

आज, कल की यादों से लड़ रही थी मैं,
आने वाले कल की परेशानियों को भी ,आज जी रही थी
कल और कल के इस कश्मकश में,
मै आज को जीना ही भूल गयी .

Today, I fought with yesterday’s memories ,

and am living tomorrow’s worries also.

In the tussle between yesterday and tomorrow,

I forgot to live today.

 

 

 

यह है ज़िन्दगी – This is life!

IMG_20170506_180653107

ग़म के भोज तले, ऐ दिल तू क्यों रोता है?

वक़्त ने सबके दामन में भरे है

कुछ पल हस्सी के, कुछ ग़म के

कल को नरम धुप के किरणें लहरायेंगे

खुशियों की क्यारी खिल खिलाएगी

ज़िन्दगी का यही दस्तूर है

थोड़े ग़म है, थोड़ी ख़ुशी!

 

O heart! why do you shed tears,

when overwhelmed by grief?

Time has distributed a fair share

of sadness and happiness to all

Tomorrow, the nascent rays of the sun, shall shine

the garden of happiness will blossom

this is the way of life

there is always some sadness and happiness!

 

 

 

 

 

 

Random Musings….

Violin, Man, Music, Concert, Mannequin, Ear, Listen

खुशियों में दिल गीत के धुन गुनगुनाता है,
लेकिन ग़म में बोल, रूह को छू जाते है|

In happiness, man enjoys the melody of a song

but when he is sad, it is the lyrics that his soul feels.

बेफवा कौन? Who Betrays?

photo-1414542303569-cb39dc6c2227

ज़िन्दगी तो बेफवा है,

जाने कब गले लगा ले

और कब ख़फा हो जाये,

पर मौत अपने वादे से

कभी नहीं मुकरती

बस एक बार जो गले लगती है

सदा के लिए अपना बना लेती है!

Life is two faced

one never knows,

when it embraces

or leaves us bitter

but, death never

breaks its promise

once it embraces you

it makes you its own!

बेवफ़ा कौन? Who is Unfaithful?

landd

ज़िन्दगी तो बेवफ़ा है,

जाने कब गले लगा ले

और कब ख़फा हो जाये,

पर मौत अपने वादे से

कभी नहीं मुकरती

बस एक बार जो गले लगती है

सदा के लिए अपना बना लेती है!

 

Life is two faced

one never knows,

when it embraces

or when it leaves us bitter

but, death never goes

back on its word

once it embraces you

it makes you its own!

 

Bilingual poem – बांवरा मन , The Wandering Mind

Peter-Pan-To-Neverland1-1180x768
ic:google.com

बांवरा  सा मन मेरा, यह तो है अलबेला

चल पड़ता यही, दिल में तराने लिए

न टिकट कटवाता, न ज़रुरत है इसको पासपोर्ट का,

न लम्बी कतारों में रुकना, न भारी सामान उठाना,

नहीं करता कोई सोच विचार, न चाहिए किसी का साथ,

आंखे मूछे, बस निकल पड़ा यूही,

बांवरा सा मन मेरा, यह तो है अलबेला

 

हसीन वादियों में खो जाता कभी,

तो कभी अनगिनत रेतों की कहानी सुनता

ऊंचे पहाड़ो को छू लेता कभी

तो कभी जंगल की घेहराईओ में खो जाता

समुन्दर के सदा बहार लहरों के संग शाम बिताता

तो कभी बागो में फूलों संग नाचता

लहराते बदल से दोस्ती कर लेता

तो कभी सावन के बूंदो से दिल बहलाता

हिम के सफ़ेद चादर तले ठंड से ठिठुरठा

तो कभी पंछियों सा मदमस्त आकाश में उड़ता

हँसता गुनगुनाता बस यूही निकल पड़ता

बांवरा सा मन मेरा, यह तो है अलबेला

 

 

This wandering mind of mine

sets off, singing a melody.

Without a ticket or a passport,

nor the hassles of long queues and heavy baggage,

with no planning or company needed,

it embarks on a journey, at the blink of the eye.

This wandering mind of mine

sets off, singing a melody.

 

At times, it loses itself in pristine surroundings

or listens to the many stories of the infinite sands,

at times it scales the peaks of gigantic mountains

or gets lost in the wilderness of the woods,

at times spends an evening with the oceanic waves

or sways along with the dancing blooms,

at times, it fosters  friendship with the wafting clouds

or soaks itself in the gentle raindrops,

at times, it shivers under the white expanse of snow

or soars like a carefree bird in the blue yonder.

Smiling and humming along,

it embarks on a beautiful journey.

This wandering mind of mine

sets off, singing a melody.

 

प्रफुल्लित रात – Night’s Blush

moon-425766_960_720
ic:pixabay.com

धुंधलाती हुई परछाई के पीछे

सूरज की किरणों ने दिन को किया अलविदा

जो जाते जाते छोड़ गयी अपनी लाली

मनो आँचल तले शर्माती दुल्हन

घरोंदो की ओर उड़ते परिंदे

ने अपनी चहक की शहनाई बजाई

सारा गुलशन स्वागत में लग गया

रात की चादर ने अपना आँचल फैलाया

तारे सारे थे बाराती जो

झिलमिल करते नाचे झूमे

शर्माती और मुस्कुराती

चाँद ने बादलों के पीछे से

दिखाई अपनी एक झलक

उसकी रौशनी ने किया सबको मदहोश

फिर क्या था, दूल्हे राजा बादलजी ने

अपनी चांदनी को छिपा लिया बाँहों में

किया दोनों ने प्यार भरी बातें रात भर

सवेरे होते ही चाँद चल दी ससुराल

जो था पृथ्वी के उस पार !

 

Behind the evanescent shadows

the rays of the sun bid adieu to the day

which left a trail of vermilion hue

as if a blushing bride under a veil

birds flying back to their nests

playing a chirpy  musical band

the horizon garnering to welcome

the expansive night sky

with the glittering stars

who were the twinkling guests

coy, demure and smiling

the moon unveiled a glimpse of her blushing face

her radiant light left all in awe

marching ahead, the groom Mr. Cloud

embraced his beloved in his arms

they spent the night cradled in love

at dawn the moon left for her husband’s abode

which was on the other side of the earth!

पहली बारिश – First Rains

rain

पहली बारिश की छींटे जब पड़े, सूखी धरती पर मानो अमृत बरसे

काली घटा छाए घनघोर, पवन जब मचाये शोर

रिमझिम रिमझिम जब तू बरसे, कानो में बजती शहनाई,

मिटटी की वो सौंधी महक, नीरस तन में भर दे  खुशियों की लहर,

पत्तियों की खामोश सरसराहट ,  फूलों का झिलमिल लहराना

मोर बाग में पंख फैलाये, और कोयल अपनी कूक सुनाये

तेरे आँचल तले सारी दुनिया चहक उठी !

 

तेरे आगमन से,

किसान के खेतो में ,फसल झूम उठे

कवि तेरे तारीफ में एक सुन्दर रचना रचे

चित्रकार अपनी मन की कल्पना में तुझे उतारे

तुझसे प्रेरित ,  संगीतकार  ने  एक नयी राग छेडी

प्रेमियों के भीगे बदन , महसूस करते कुछ अनकही बातें

मन उल्हास से भर, कोई धुन गुनगुनाता है,

चारों ओर ख़ुशी की बौछार छाए

हे बरखा ! तू ऋतुओ की रानी है.

 

First Rains

The first drops of rain seem like nectar to the parched earth

Dark clouds are formed as the winds roar

Your pitter patter drops sound musical to the ears

The fragrance of the first drops of rain, fill the barren mind with waves of euphoria

You usher in the silent movement of the leaves and the gentle swaying of the flowers

The peacock showcases its plumes and the cuckoo sings away to glory

The entire world revels under your benevolent grace!

 

On the onset of monsoon,

The crops in the fields dance in gay abandon

The poet composes a beautiful ode in your honour

The artist’s imaginations paints an alluring picture of your beauty

You inspire the musician to compose a soothing melody

Soaking in the rain, the lovers indulge in ecstatic moments of passion

With sheer happiness, the mind hums a soft tune

The rainfall sets a jubilant mood all around

O monsoon! You are the queen of all seasons!

 

Inspired by the first rainfall  of the season, we had here this morning 🙂

 

 

 

ज़िन्दगी का आईना – Mirror of Life

images (3)

ज़िन्दगी के आईने में चेहरा देखा

पहचान न सका अपने आप को

नीरस आखें, झुर्रियों से भरा मुँख

अपने अक्स से डर गया मै

इस ज़िन्दगी के भाग दौड़ में,

काम का नशा इतना छा गया

कि मुस्कुराना भूल गया,

छोटी छोटी खुशियों से मुँह फेर लिया

सफलता की बुलंदी तो छू ली

रुकना नहीं आया मुझे

मकान था आलिशान

पर वो घर न बन पाया

परिवार अजनबी लगने लगा

खुद को पाया अकेला, तनहा इतना कि,

मेरा साया भी मेरा न रहा .

 

Looking at the mirror of  life

I could not recognize myself.

Hollow eyes, a wrinkled face

was aghast at my reflection.

In the rat race of life

work became my obsession.

Forgot the art of smiling

became oblivious to life’s tiny delights.

Kissed the pinnacle of success

but didn’t learn to pause.

Built a palatial house

but it missed out on being a home.

My family seemed strangers

found myself so lonely and desolate, that

even my shadow was not mine anymore!

 

होली – Holi

holi
ic:www.pinterest.com

पेड़ो पर नयी पत्तिया अंकुरित होते है

नन्ही कालिया खिलती है, कोयल की कूक गूंजती अम्बुआ में

नयी बहार नयी उमंगो के साथ फागुन ले आया होली की सौगात

रंगों की इंद्रधनुष सजाती है चित्र सुनहरा

मानो चित्रकार ने सारा शहर गुलाल से रंग दिया हो

होलिका दहन के साथ जला  दी बुराई , प्यार और श्रद्धा को गले लगाया

भेद भाव सब  भुला, गिलेशिकवे  सारे माफ़ कर,

हर्ष और उल्लाहस के साथ सब मिलझुल कर खेले होली

नाच, गाना, मिठाइयों के बीच , बच्चे , बूढ़े सब झूमे

पिचकारी संग भिगो या गुब्बारे

यह है त्यौहार रंगों का, खुशियो का, आओ खेले होली !

आप सब को होली ही हार्दिक शुभ कामनायें!!

 

The trees sprout new leaves, the tender buds blossom,

The cuckoo’s singing echoes in the mango orchards

With new glory and exhultaion, spring ushers in the gift of Holi

The rainbow of colours paint a beautiful picture

As if an artist has painted the town with different hues

We burn all evil with Holika dahan and embrace love and faith

The discrimination wiped clean and differences forgiven

With joy and merriment people play holi

Music, dance and sweets enjoyed by young and old

As they get drenched with pichkari* or balloons

This is a festival of colours and happiness.

Come let’s play holi!

Wishing you a Happy and Colourful Holi!

*water gun

 

%d bloggers like this: