Random Musings – कल Vs Tomorrow

Alive, Awake, Aware, Hands, Embrace, Holding, Being
johnhain@pixabay.com

आज, कल की यादों से लड़ रही थी मैं,
आने वाले कल की परेशानियों को भी ,आज जी रही थी
कल और कल के इस कश्मकश में,
मै आज को जीना ही भूल गयी .

Today, I fought with yesterday’s memories ,

and am living tomorrow’s worries also.

In the tussle between yesterday and tomorrow,

I forgot to live today.

 

 

 

यह है ज़िन्दगी – This is life!

IMG_20170506_180653107

ग़म के भोज तले, ऐ दिल तू क्यों रोता है?

वक़्त ने सबके दामन में भरे है

कुछ पल हस्सी के, कुछ ग़म के

कल को नरम धुप के किरणें लहरायेंगे

खुशियों की क्यारी खिल खिलाएगी

ज़िन्दगी का यही दस्तूर है

थोड़े ग़म है, थोड़ी ख़ुशी!

 

O heart! why do you shed tears,

when overwhelmed by grief?

Time has distributed a fair share

of sadness and happiness to all

Tomorrow, the nascent rays of the sun, shall shine

the garden of happiness will blossom

this is the way of life

there is always some sadness and happiness!

 

 

 

 

 

 

बेफवा कौन? Who Betrays?

photo-1414542303569-cb39dc6c2227

ज़िन्दगी तो बेफवा है,

जाने कब गले लगा ले

और कब ख़फा हो जाये,

पर मौत अपने वादे से

कभी नहीं मुकरती

बस एक बार जो गले लगती है

सदा के लिए अपना बना लेती है!

Life is two faced

one never knows,

when it embraces

or leaves us bitter

but, death never

breaks its promise

once it embraces you

it makes you its own!

प्रफुल्लित रात – Night’s Blush

moon-425766_960_720
ic:pixabay.com

धुंधलाती हुई परछाई के पीछे

सूरज की किरणों ने दिन को किया अलविदा

जो जाते जाते छोड़ गयी अपनी लाली

मनो आँचल तले शर्माती दुल्हन

घरोंदो की ओर उड़ते परिंदे

ने अपनी चहक की शहनाई बजाई

सारा गुलशन स्वागत में लग गया

रात की चादर ने अपना आँचल फैलाया

तारे सारे थे बाराती जो

झिलमिल करते नाचे झूमे

शर्माती और मुस्कुराती

चाँद ने बादलों के पीछे से

दिखाई अपनी एक झलक

उसकी रौशनी ने किया सबको मदहोश

फिर क्या था, दूल्हे राजा बादलजी ने

अपनी चांदनी को छिपा लिया बाँहों में

किया दोनों ने प्यार भरी बातें रात भर

सवेरे होते ही चाँद चल दी ससुराल

जो था पृथ्वी के उस पार !

 

Behind the evanescent shadows

the rays of the sun bid adieu to the day

which left a trail of vermilion hue

as if a blushing bride under a veil

birds flying back to their nests

playing a chirpy  musical band

the horizon garnering to welcome

the expansive night sky

with the glittering stars

who were the twinkling guests

coy, demure and smiling

the moon unveiled a glimpse of her blushing face

her radiant light left all in awe

marching ahead, the groom Mr. Cloud

embraced his beloved in his arms

they spent the night cradled in love

at dawn the moon left for her husband’s abode

which was on the other side of the earth!

पहली बारिश – First Rains

rain

पहली बारिश की छींटे जब पड़े, सूखी धरती पर मानो अमृत बरसे

काली घटा छाए घनघोर, पवन जब मचाये शोर

रिमझिम रिमझिम जब तू बरसे, कानो में बजती शहनाई,

मिटटी की वो सौंधी महक, नीरस तन में भर दे  खुशियों की लहर,

पत्तियों की खामोश सरसराहट ,  फूलों का झिलमिल लहराना

मोर बाग में पंख फैलाये, और कोयल अपनी कूक सुनाये

तेरे आँचल तले सारी दुनिया चहक उठी !

 

तेरे आगमन से,

किसान के खेतो में ,फसल झूम उठे

कवि तेरे तारीफ में एक सुन्दर रचना रचे

चित्रकार अपनी मन की कल्पना में तुझे उतारे

तुझसे प्रेरित ,  संगीतकार  ने  एक नयी राग छेडी

प्रेमियों के भीगे बदन , महसूस करते कुछ अनकही बातें

मन उल्हास से भर, कोई धुन गुनगुनाता है,

चारों ओर ख़ुशी की बौछार छाए

हे बरखा ! तू ऋतुओ की रानी है.

 

First Rains

The first drops of rain seem like nectar to the parched earth

Dark clouds are formed as the winds roar

Your pitter patter drops sound musical to the ears

The fragrance of the first drops of rain, fill the barren mind with waves of euphoria

You usher in the silent movement of the leaves and the gentle swaying of the flowers

The peacock showcases its plumes and the cuckoo sings away to glory

The entire world revels under your benevolent grace!

 

On the onset of monsoon,

The crops in the fields dance in gay abandon

The poet composes a beautiful ode in your honour

The artist’s imaginations paints an alluring picture of your beauty

You inspire the musician to compose a soothing melody

Soaking in the rain, the lovers indulge in ecstatic moments of passion

With sheer happiness, the mind hums a soft tune

The rainfall sets a jubilant mood all around

O monsoon! You are the queen of all seasons!

 

Inspired by the first rainfall  of the season, we had here this morning 🙂

 

 

 

अनकही बातें – Unspoken Words

unsaid1
IC: http://www.google.com

ख़ामोशी कभी कभी बहुत कुछ कह जाती है

वो अनकही अनसुनी दास्ताँ बयान  कर देती है

एक ऐसी ग़ज़ल की रचना  करती है

जो जाने सिर्फ  दिल और आखों की जुबां

ये नैन तेरी सुंदरता  निहारे सारी रैन

तेरे घने ज़ुल्फो के साये तले

वो खामोश लम्हे प्यार के

कैसे बयान करे हम

तन्हाई में भी एक कशिश है

जब साथ हो, आपका,

हाथो  में हाथ हो

और कुछ अनकही बातों का

Unspoken Words

At times silence speaks volumes

narrates a saga of the unspoken verses

composes a beautiful song

which speaks the language of the heart and eyes

All night my eyes soak in your beauty

In the shade of your lustrous tresses

how can I express

those beautiful moments of silence

There is beauty in solitude too

when I am with you,

hand in hand

along with some unspoken words.

कोरा कागज़ -Blank Paper

paper

     मै वो कोरा कागज़ हूँ , जिसमे तूने

अपने ज़िन्दगी  के फलसफे भर दिए।

इन शब्दों की दुनियां में खूब सैर  किया है मैंने

लोग तो वही हैं ,पर ख़याल अलग अलग।

किसी ने एक सोच की लड़ी पिरो दी ,

तो किसी  ने धर्म का ज़हर घोल दिया।

किसी ने खुशियों की फुलझड़ी जला दी ,

तो कोई  ग़म के बादल में खो गए।

किसी ने जीत का ऐलान किया ,

तो कोई हार की चादर मे छिप गया।

किसी ने प्यार का इज़हार किया ,

तो किसी ने जुदाई के आँसू में मुझे डुबो दिया।

किसी ने  नगमो के मोतियों  से मुझे सजाया ,

तो किसी ने शब्दों  से  मुझे  घायल किया।

किसी ने रंगबिरंगी चित्रो से मेरा श्रृंगार किया ,

तो किसी ने अपनी सूनी दास्तान बयान की।

किसी ने रिश्ते बनाने की पहल की ,

तो किसी ने रिश्तों की बलि चढ़ा दी।

सदियों से मै गवाह हूँ

बदलते मौसम का ,

मै वो  कोरा कागज़ हूँ , जिसमे तूने

अपने ज़िन्दगी  के फलसफे भर दिए।

I am that blank paper in which

 you have filled up the philosophy of your life.

I have travelled the expanse , in the world of words

People all over are the same, differing only in their thoughts.

Some have woven a beautiful string of thoughts,

while some poison the minds in the name of religion.

Some have lit sparkles of happiness,

while some were lost amid the clouds of gloom.

Some, trumpeted the story of their success

while some hid themselves in the blanket of failure.

Some proposed love,

while some drowned me in the tears of sorrow.

Some decorated me with pearls of poetry,

while some hurt me with harsh words.

Some coloured me with a beautiful painting,

while some played a melancholic tune.

Some tried to foster relationships,

while some others sacrificed them.

I am a witness to the

ever-changing seasons, since centuries

I am that blank paper in which

 you have filled up the philosophy of your life.

गुलज़ार – Gulzar

IndiaTv85a1f0_gulzar

Sampooran Singh Karla popularly known by his pen name Gulzar, is an Indian poet, lyricist and film director. His style marks sensitivity that is reflected through his writing and films.  The coming together of  Late R.D.Burman (music director ) and Gulzar created musical magic . Their songs are evergreen even after 4 decades. His writing continues to weave a magical spell on his readers till date.

I present my maiden attempt at Hindi poetry, as a tribute to this great legend on his 82nd  birthday…..18 Aug !!

 

तेरे कलम की सिहाई से जो हुआ रूबरू

उसे जाम या मैखाने की क्या ज़रुरत ,वह तो बिन पिए ही मदहोश हो गया

 

ओस के बूँदों की तूने जो मोती पिरोई, माथे की बिंदिया, हाथों का कंगन

लबोह की लाली , आंखों का काजल, तेरे लव्जों ने क्या खूब किया औरत का श्रृंगार

 

वादी में शहनाई गूंजे या बिरह की रात की तड़प, सेहर का सूरज हो या रात की चांदनी

कई चित्रों में गहरे रंग भरे, तेरे गीतो के बोल ने

 

माशूका के बाहों में बीते हुए वो लम्हों के साथ

हम डूब गए तेरे अल्फाज़ के नशे में

 

दिल की तन्हाइयो में जाने कहा खो गया, एक अकेला और तनहा इस भरी महफ़िल में

बस एक तेरे कलम की जादू थी, जो मेरा हमसफ़र बन गया

 

तुझे सजदा पेश किया है हमारी ज़िन्दगी,

गुले गुलज़ार के गुलदस्ते से सजाने के लिए

 

The one who stumbled upon your writing

needs no wine to get a high,

reading your verses leaves him intoxicated.

                          **********

Like the garland of dewdrops,

the vermillion on the forehead,

bangle laden hands, glossy lips, kohl darkened eyes,

your words have added glory to a woman’s beauty.

                            ***********

The lyrics of your many songs have painted

a beautiful picture depicting many scenes….

A plaintive clarinet, the tremblings of a lonely heart,

the rising sun and the moon lit night.

                               *************

The magical nectar of your words

reminds one of the moments

spent in the arms of the beloved.

                               *************

In the depths of the loneliness,

a lone soul among the throng of people,

I find a companion in the magic

you weave with your words.

                              ***************

An ode to you for presenting us

a bouquet of blossoming flowers

and brightening our lives.

 

%d bloggers like this: